Moonlighting, Wipro, IT industry – What?

The debate whether moonlighting is ethical or not recently sparked on social media in India when #wipro Chairman Rishad Premji tweeted about a month back "There is a lot of chatter about people moonlighting in the tech industry. This is cheating - plain and simple". There is no doubt that the Wipro Chairman takes the… Continue reading Moonlighting, Wipro, IT industry – What?

Hindutva by Vinayak Damodar Savarkar – A Book Review

हिंदुत्व कोई सामान्य शब्द नहीं है। यह एक परंपरा है। एक इतिहास है। यह इतिहास केवल धार्मिक अथवा आध्यात्मिक इतिहास नहीं है। अनेक बार ‘हिंदुत्व’ शब्द को उसी के समान किसी अन्य शब्द के समतुल्य मानकर बड़ी भूल की जाती है। वैसा यह इतिहास नहीं है। वह एक सर्वसंग्रही इतिहास है। Introduction:GENRE: History/Essay/Non-fictionAUTHOR: V.D. SavarkarPAGES:… Continue reading Hindutva by Vinayak Damodar Savarkar – A Book Review

वक्त

गुजरते देखा है जिंदगी को इतना करीब सेवो ना आया जब मिलने का वक्त आया मोहलत मांग लेते हम उससे मगरजिंदगी में तनहाई निभाने का वक्त बेवक्त आया क्या खूब कहा था उसने वफ़ा के लिएउसके झूठ पर जाम पीने का मजा आया गजब का तौबा किया था उसने जबहमारे नाम के आगे उसका नाम… Continue reading वक्त

The Millennial’s Internet Crisis – A short Essay

It has been not so long ago that if you looked on the streets in the evening time, you saw kids playing gully cricket or chatting up with what happened in the recent episode of shaktimaan or in their favourite cartoon. That was the time when kids learnt from the books or their elders or… Continue reading The Millennial’s Internet Crisis – A short Essay

अहिल्या

इस धरा की बात है खासखुद भगवान उतरे यहां सबके साथ।जब कभी अंधकार घिर आता है,मानव नीचे गिरता जाता है,भूमि से हरि को ही पुकारता है,अधर्म से मुक्ति को अकुलाता है।त्रेता में जब यह नाद हुआ,पाप से सत्कर्म जब बर्बाद हुआभीक्षण आंधी उड़ती आती थी,सात्विकता नष्ट कर ले जाती थी।ऋषियों का जीना दूभर हुआ जाता… Continue reading अहिल्या